LiDAR Kya Hai ? LiDAR Kaise Kaam Karta Hai

नमस्कार दोस्तों आज के इस लेख में हम ये जानेंगे की LiDAR Kya Hai और LiDAR Kaise Kaam Karta Hai. यदि आप RADAR के बारे में थोड़ी बहुत जानकारी रखते है तो आपको इस LiDAR Technology को समझना आसान हो जायेगा या यू कहु तो आपको इसके बारे में पता होगा.

आने वाले समय की बात की जाये तो इस लाइडार टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल बहुत ज़्यादा होने वाला है और हो भी क्यू ना इससे आस पास के क्षेत्र का 3D मॉडल तैयार करना बहुत ज्यादा आसान जो हो जाता है.

LiDAR Kya Hai – लाइडार क्या है ?

Light Detection and Ranging, Lidar ka Full Form है. इस टेक्नोलॉजी का ज्यादातर इस्तेमाल Industrial या Commercial equipment में किया जाता है किसी भी Object, Building, Land के 3D Scan करने लिए.

LiDAR Kya Hai – ये एक रिमोट सेंसिंग टेक्नोलॉजी है जो Laser, Scanner और GPS का इस्तेमाल करता है. इस LiDAR Scanner के अंदर Infrared Pulse light का इस्तेमाल किया जाता है किसी भी ऑब्जेक्ट को स्कैन करने के लिए. इसके मदद से हम उस ऑब्जेक्ट के Shape, Depth और Distance को measure करते है.

जिस तरीके से RADAR रेडियो वेव्स का इस्तेमाल करता है, SONAR साउंड वेव्स का इस्तेमाल करता है उसी तरीके से LiDAR लाइट वेव्स का इस्तेमाल करता है Objects को identify करने के लिए.

How Does LiDAR Work – LiDAR Kaise Kaam Karta Hai

LiDAR Scanner, Infrared Pulse light emit करता है जो आस पास के objects के साथ इंटरैक्ट करता है. Interaction के बाद ये लाइट बाउंस बैक करते है जिन्हे कैप्चर और रिकॉर्ड किया जाता है. उन lights को प्रोसेस कर एक 3D Model तैयार किया जाता है.

Speed की बात करे तो LiDAR, RADAR और SONAR के मुकाबले बहुत ही तेज़ी से काम करता है. आपको ये तो पता ही होगा की लाइट का स्पीड सबसे ज़्यादा होता है.

अभी तक अपने ये जाना की LiDAR Kya Hai और LiDAR Kaise Kaam Karta Hai. आइये इनके उपयोग के बारे में जानते है.

Advantage of LiDAR – LiDAR Uses

Self-Driving Vehicle :

किसी भी सेल्फ ड्राइविंग कार के लिए लाइडार सेंसर उसकी आँख की तरह काम करता है, ये केवल एक ही दिशा में नहीं बल्कि चारो दिशाओ में एक साथ देखता है. अनुमान लगाने के बजाए ये आपको सटीक दुरी और ऑब्जेक्ट की जानकारी देता है.

Building Construction and Archaeology :

Archaeologist के लिए पुरातात्विक सतहों को अच्छी तरीके से समझने के लिए लाइडर स्कैनर बहुत काम आता है. Building Construction की बात करे तो Structure design को capture कर 3D Modelling करना या स्ट्रक्चर डिज़ाइन का अध्ययन करना, इन सभी कामो में लाइडार बहुत काम आता है.

River Survey :

नदी के अंदर के इलाकों को देखना और उनके 3D Model को तैयार करने में लाइडार काफी मददगार साबित होता है. इसकी मदद से नदी का बहाव, गहराई, और चौड़ाई को समझ पाना आसान है, साथ ही बाढ़ जैसे इलाकों की निगरानी करना भी आसान होता है.

Disadvantage of LiDAR – LiDAR के नुकसान

Low Operating Altitudes :

LiDAR Technology 2000 meter से अधिक ऊंचाई पर काम नहीं कर सकती है क्योंकि इन ऊंचाइयों पर light pulse प्रभावी नहीं होती।

Heavy Rain या Low Hanging Cloud के दौरान अप्रभावी :

Refraction के प्रभाव के कारण भारी बारिश या कम लटके बादलों से लाइडार की light pulse प्रभावित हो सकती हैं.लेकिन एकत्र किए गए डेटा को अभी भी विश्लेषण के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है.

High operating costs :

लाइडार सस्ता है लेकिन डेटा इकट्ठा करते समय छोटे क्षेत्रों में लागू होने पर यह महंगा हो सकता है.

Conclusion

मुझे उम्मीद है की इस लेख के माध्यम से मैंने आपको LiDAR Kya Hai और LiDAR Kaise Kaam Karta Hai की पूरी जानकारी दी है.यदि आपको हमारे द्वारा दी गयी जानकारी अच्छी लगी हो या इस लेख में किसी तरह की कोई त्रुटि है तो हमें इस कमेंट के माध्यम से जरूर बताये.

Follow Me on
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments